दस रुपये दो न माँ

मेरा बाहरवीं का रिज्ल्ट आया था उस दिन। बहुत अच्छे नंबर आये थे। क्लास में टॉप किया था। मैं बहुत खुश था। में पल भर के लिये घर में क्या

कैसे कैसे भगवान

अभी कुछ वर्ष पहले जब कन्नड़ अभिनेता राजकुमार का वीरअप्पन ने अपहरण कर लिया था तो उनके किसी भक्त ने हिम्मत न दिखाई? अरे जंगल में जा कर भिड़ जाते


बिस्कुटों वाली बुआ

1968-69 की बात है, मैं तीन या चार साल का रहा होंऊगा। अस्सी साल की वो बुढ़िया हमारे सामने के घर में रहती थी। कंकाल सी काया थोड़ी झुकी हुई,

जब प्राण तन से निकले

जब सिंधु ने यह पूछा कि आप ने कभी मौत के बारे में सोचा है तो मैं हैरान रह गया. मैंने अपनी जिंदगी में कितनी ही मौतें देखीं मगर कभी